Pukaar Foundation Group picture 285th Sunday

गर्मी के आते ही सतर्क हुए युवा

गर्मी के शुरू होते ही पौधों के बचाव की ज़िम्मेदारी बढ़ जाती है | और इसी ज़िम्मेदारी को बखुभी निभा रहे हैं पुकार फाउण्डेशन के योद्धा | जिन्होंने प्रकृति के लिए अपना 285वाँ रविवार समर्पित किया | संस्था लगातार कार्य करते हुए अपने 300वें रविवार की ओर बढ़ रही है | पुकार के बारें में […]

pukaar banswara team's 110th sunday

पुकार बांसवाड़ा के युवाओं के 100 रविवार पूर्ण

पुकार बांसवाड़ा टीम ने अपना 100वां रविवार दिनांक 29 दिसम्बर 2019 को समर्पित किया | टीम पिछले दो वर्षों से लगातार पर्यावरण संरक्षण का कार्य कर रही है | टीम के सदस्यों ने सभी महानुभावो का सहयोग के लिए आभार प्रकट किया| टीम ने 100वें रविवार पर तिरुपति ग्रीन कॉलोनी में पौधारोपण किया | उसके बाद […]

नया साल, नई शुरुआत, प्रकृति की रक्षा के लिए समर्पण वही पुराना

नया साल,नई शुरुवात,नया समर्पण नया साल 2020 का पहला रविवार पुकार फाउंडेशन के सदस्यों ने जिला शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान में महिंद्रा फ़ाइनेंस  के सहयोग से लगाए गए  मियावाकी जंगल को पानी पिलाकर एवं रखरखाव कर समर्पित किया | अत्यधिक ठंड पड़ने के बावजूद टीम के सदस्य अल सुबह पौधों के रखरखाव के लिए पहुच […]

Khejadi tree

क्यों आवश्यक हैं पैतृक व लोकल प्रजाति के पौधे, बेहतर पर्यावरण के लिए ?

 पैतृक व लोकल प्रजाति के पौधे क्या होते हैं ? पैतृक व लोकल प्रजाति पौधे वह होते है जो मनुष्य द्वारा प्रस्तुत नहीं किया गया बल्कि स्वाभाविक रूप से पैदा होता है। पैतृक पेड़ हमारे वन्यजीवों के लिए भोजन और आश्रय प्रदान करते है |ये पौधे जानवरों और मनुष्यों दोनों के लिए ऑक्सीजन का निर्माण करने […]

warriors of pukaar doing maintenance

प्रकृति की रक्षा के लिए एक और रविवार समर्पित

प्रकृति की रक्षा के लिए पौधे लगाने के बाद उनकी सुरक्षा करना भी ज़रूरी है |यही संदेश मिला पुकार फ़ाउंडेशन के युवा सदस्यों से | जिन्होंने इस रविवार को बरकत कॉलोनी पार्क एवं सौन्दर्य वन में पौधों का रखरखाव किया | पुकार फ़ाउंडेशन का पर्यावरण संरक्षण का यह 271वां रविवार था |इस मुहिम के तहत […]

pukaar plantation ngo in udaipur

जैव विविधता बढ़ाने हेतु युवाओं ने बनाया मिनी फॉरेस्ट

जैव विविधता को बढ़ावा देना एवं पुनर्स्थापित करना है लक्ष्य झीलों की नगरी, पूर्व का वेनिस ऐसे कई सारे नामों से प्रसिद्ध है उदयपुर शहर|अब इसमे एक नाम और जुडने वाला है  मिनी-फॉरेस्ट का शहर। इस नाम से प्रसिद्ध होने का कारण बनेगा उदयपुर शहर में मियावाकी विधि द्वारा जंगल उगाने का प्रचलन| जिसमे लोकल […]